ब्रेकिंग न्यूज़

पुलिस मुठभेड़ में पकड़े गए सूबे गैंग के तीन गैंगस्टरों से खुलासे तथा उनका आपराधिक इतिहास

दिनांक06-10-2020 को सोहना में पुलिस द्वारा सूबे गैंग के तीन सूटर पकड़े गए जिनसे पुछताझ में कुछ खुलासे हुए है तथा उनका आपराधिक इतिहास आपके सामने है 

*1. आरोपी राजेश कुमार उर्फ फौजी, उम्र 38 वर्ष –*  यह बदमाश मूल रुप में गाँव बढा, थाना खेङकी दौला, जिला गुरुग्राम का स्थाई निवासी है तथा अब कई वर्षों से राजीव कॉलोनी नाहरपुर रुपा में रहता है। इसके तीन बच्चे है। इसके खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास, पुलिस के साथ मुठभेङ, जेल में रहते हत्या का षङयन्त्र व फिरौती के लिए धमकी देने इत्यादि अपराधों के 18 अभियोग अंकित है। यह 05 लाख रुपयों के ईनामी कुख्यात बदमाश सूबे गुर्जर का सबसे विश्वासपात्र व नजदीक व्यक्ति है तथा उसके सम्पर्क में रहकर गुरुग्राम में हो रही सभी गतिविधियों के बारे में बतलाता है। यह सूबे गुर्जर के कहने पर कई प्रकार की वारदात करवाता था। आरोपी को अपराधिक रिकॉर्ड निम्नलखित हैः-

👉🏻 थाना सदर गुरुग्राम के रिकॉर्ड में इसका नाम बतौर बी.सी. (बैड करेक्टर) दर्ज है।
👉🏻 वर्ष 1998 में पहली बार अवैध हथियार के मामले में जेल गया था।
👉🏻 वर्ष 1999 में लूट की योजना बनाते हुए अपने साथियों के साथ पुलिस द्वारा पकङा गया था।
👉🏻 वर्ष 2001 में धारा 308 भा.द.स. में जेल में बन्द हुआ और 04 महीने जेल में बन्द रहा।
👉🏻 वर्ष 2006 में गिरोहबन्दी के मामले में अपने अन्य साथियों कौशल, सूबे गुर्जर, अमित डागर, राजेन्द्र व निकू के साथ जेल गया था।
👉🏻 वर्ष 2006 में गुनवाल स्पॉर्टस खाण्डसा रोङ, गुरुग्राम पर गोली चलाने के मामले में संलिप्त रहा।
👉🏻 वर्ष 2006 में इसके कहने पर छैलू गैंग के शूटर राजू व ढिल्लू की हत्या करके डबल हत्याकाण्ड की वारदात को अऩ्जाम दिया गया था।
👉🏻 दिसम्बर-2006 में कौशल व अमित डागर के साथ मिलकर राजीव चौक, गुरुग्राम पर गैंगस्टर छेलू की हत्या की थी।
👉🏻 वर्ष 2007 में मुकेश सूर्यान्श होटल वाले की हत्या की थी।
👉🏻 वर्ष 2007 में हरबीर राठी निवासी बार गुर्जर के साथ मिलकर छैलू की पत्नी पर गोली चलाई थी।
👉🏻 वर्ष 2007 में सूबे गुर्जर के कहने पर गाँव कोटा में डी.एस. प्लान्ट मिक्सचर वाले पर पैसों की फिरौती के लिए गोली चलाई थी।
👉🏻 वर्ष 2008 में हजरत निजामुद्दिन थाना दिल्ली में अवैध हथियार के मामले में संलिप्तता।
👉🏻 वर्ष 2008 में दिल्ली स्पेशल सेल स्टाफ ने भिवाङी से अवैध हथियार के मामले में पकङा था।
👉🏻 वर्ष 2009 में जेल के अन्दर रहते हुए इसने दर्शन निवासी नाहरपुर रुपा पर गोली चलवाई थी।
👉🏻 वर्ष 2013 में गुरुग्राम में अपने साथी चाँद व रामफल के साथ पुलिस के साथ मुठभेङ के बाद पकङा गया था।
👉🏻 वर्ष 2014 में अवैध हथियार के मामले में संलिप्तता।
👉🏻 वर्ष 2019 में मानेसर के नम्बरदार की हत्या करवाने में संलिप्त था।
👉🏻 वर्ष 2019 में इसने सूबे के कहने पर हथीन में एक मौलवी की हत्या करवाई थी।
👉🏻 मार्च 2020 में सूबे व अनिल पण्डित के कहने पर इसने रेवाङी में विकास पर पैसों की फिरौती के लिए गोली चलवाई थी।
👉🏻 अब यह सूबे के कहने पर अपने उपरोक्त साथियों के साथ मिलकर एक प्रॉपर्टी डीलर की हत्या करने के लिए घूम रहे थे। जिसके लिए इसने अपने उपरोक्त साथियों अमन उर्फ सरदार व कमल उर्फ ममली दोनों सूटरों को तैयार किया हुआ था और हथियार भी तैयार किए हुए थे और इन्होनें रैकी भी की हुई थी। ये एक से दो दिन में इस वारदात को अन्जाम देने वाले थे।

*2. आरोपी कमल उर्फ कमली उम्र 32 वर्ष –* यह बदमाश मूल रुप से गाँव बढा, गुरुग्राम का रहने वाला है, शादीशुदा है और इसके 02 बच्चे हैं। 03 साल पहले यह एक प्राईवेट स्कूल की बस चलाता था। यह राजेश उर्फ फौजी का चचेरा भाई है। यह राजेश उर्फ फौजी के सम्पर्क में रहता है और सूबे गुर्जर द्वारा बताए गए काम को अन्जाम देता है। यह सूबे गुर्जर के कहने पर अब तक 02 हत्याओं की वारदात को अन्जाम दे चुका है। इसके बारे में इसकी गैंग के मैम्बर भी नही जानते। यह सूबे गैंग का एक साईलैन्ट शॉर्प शूटर है। यह सिर्फ सूबे गुर्जर व राजेश फौजी के ही संम्पर्क में रहता है। इसका अपराधिक रिकॉर्ड निम्नलिखित हैः-

👉🏻 अवैध हथियार रखने के मामले में भी यह गिरफ्तार हो चुका है।
👉🏻 वर्ष 2019 में इसने राजेश उर्फ फौजी के कहने पर सूबे गैंग के अन्य शूटरों के साथ मिलकर मानेसर में नम्बरदार की हत्या की थी।
👉🏻 वर्ष 2019 में राजेश उर्फ फौजी के कहने पर हथिन में उटावङ चौक पर इसने अपने साथी के साथ मिलकर एक मौलवी की हत्या की थी।

*3. बदमाश अमन निवासी मुंडिया कलां जिला लुधियाना पंजाब –*  यह आरोपी मूल रुप से पंजाब का रहने वाला है, लेकिन कई वर्षों से हंस इन्कलेव गुरुग्राम का रहने वाला था और करीब 06 महिनो से EWS फ्लैट्स नजदीक टाटा प्रिवंती गुरुग्राम में रह रहा है। 12वीं तक पढा हुआ है। यह ऑटो रिक्शा चलाने का काम करता था। उसके बाद इसने राजेश उर्फ फौजी के लिए अवैध शराब बेचने का काम किया। राजेश उर्फ फौजी ने इसे अच्छे पैसे कमवाने के लिए प्रोत्साहित किया तथा सूबे गुर्जर के बारे में बतलाया तो यह सूबे गुर्जर गैन्ग में शामिल हो गया। इसके बारे में सूबे गुर्जर व राजेश उर्फ फौजी के अतिरिक्त गैंग का भी कोई सदस्य नही जानता था। यह गैन्ग का साईलेन्ट शॉर्प सूटर है। इसने रेवाङी में आढती पर गोली चलाने की वारदात को अऩ्जाम दिया था। अब यह अपने उपरोक्त साथियों के साथ सोहना में हत्या की वारदात को अन्जाम देने वाला था।

▪ उपरोक्त तीनों आरोपी उपचाराधीन है। उनसे गहनता से पूछताछ करते हुए नियमानुसार आगामी कार्यवाही की जाएगी। अभियोग अनुसंधानाधीन है।

No comments