ब्रेकिंग न्यूज़

महिलाओं व बच्चों के विरुद्ध होने वाले अपराधों के संबंध में कानून में दिए गए प्रावधानों के बारे में विस्तारपूर्वक एक दिवसीय ट्रेनिंग प्रोग्राम का किया गया आयोजन।

*✍🏻 श्रीमती ऊषा कुंडू, सहायक पुलिस आयुक्त मुख्यालय, गुरुग्राम की अध्यक्षता में महिलाओं व बच्चों के विरुद्ध होने वाले अपराधों के संबंध में कानून में दिए गए प्रावधानों के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देने के लिए एक दिवसीय ट्रेनिंग प्रोग्राम का किया गया आयोजन।* 

*✍🏻  पुलिस आयुक्त कार्यालय के कॉन्फ्रेंस हॉल में आयोजित इस एक दिवसीय ट्रैनिंग प्रोग्राम में गुरुग्राम के सभी थानों व महिला थानों में तैनात महिला पुलिस अधिकारियों को ट्रेनिंग में बुलाकर महिलाओं व बच्चों के विरूद्ध अपराधों के अधिनियमों/कानूनों में किए गए बदलाव की दी गई विस्तृत जानकारी व दिशा-निर्देश।*

*✍️ इस ट्रेनिंग प्रोग्राम में सेवानिवृत्त निरीक्षक राजपाल मुख्य प्रवक्ता के रूप में हुए शामिल, साथ ही CWC की चैयरपर्सन, One Stop Centre की Head ने भी मुख्य रूप इस आयोजन में रहे उपस्थित।*
▪आज दिनांक 02.10.2020 को श्रीमती ऊषा कुंडू, सहायक पुलिस आयुक्त मुख्यालय, गुरुग्राम के नेतृत्व में पुलिस आयुक्त कार्यालय के कॉन्फ्रेंस हॉल में एक दिवसीय ट्रैनिंग प्रोग्राम का आयोजन किया गया।

▪️इस ट्रैनिंग प्रोग्राम में गुरुग्राम जिला के पुलिस थानों में, महिला पुलिस थानों में तैनात महिला पुलिस अधिकारियों को बुलाकर महिला व बच्चों के विरुद्ध होने वाले विभिन्न अपराधों व सेक्सुअल हरासमेंट इत्यादि के बारे में विस्तारपूर्वक विशेष जानकारियां दी गई।

▪इस आयोजन में सेवानिवृत्त निरीक्षक राजपाल बतौर मुख्य प्रवक्ता शामिल हुए। उनके द्वारा इस आयोजन में उपस्थित सभी महिला पुलिस अधिकारियों को इस आयोजन के माध्यम से बच्चों व महिलाओं के विरुद्ध होने वाले अपराधों के बारे कानून में दिए गए प्रावधानों को विस्तारपूर्वक समझाया साथ ही इन कानूनों में हुए बदलाव/सुधार के बारे में भी बताते हुए समझाया गया। श्री राजपाल ने उपस्थित महिला पुलिस अधिकारियों के साथ अपने विचार साझा करते हुए महिला व बच्चों के विरुद्ध होने वाले अपराधों में पुलिस की क्या भूमिका बनती है और पुलिस को किस प्रकार से कानून व पुलिस कार्यवाही करनी चाहिए और इन अपराधों में अपराधी कानून का कैसे फायदा उठाते है उनके विरुद्ध नियमानुसार कैसे कार्यवाही करें ताकि कोई भी अपराधी सजा से बच ना सके इत्यादि पहलुओं पर गहनता से प्रकाश डालते हुए समझाया गया व उचित दिशा-निर्देश दिए। 
▪इस एक दिवसीय ट्रैनिंग प्रोग्राम में उपस्थित महिला पुलिस अधिकारियों को बच्चों (मेल/फीमेल) महिलाओं व बच्चों के विरुद्ध होने वाले अपराधों से कैसे बचे, किस प्रकार इनकी रोकथाम करें व कानून में इन अपराधों की रोकथाम के लिए क्या नियम दिए है इत्यादि की जानकारी दी गई। इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य भी यही था। 

▪ इस ट्रेनिंग प्रोग्राम में सेवानिवृत्त निरीक्षक राजपाल सहित CWC की चैयरपर्सन, One Stop Centre की Head ने भी मुख्य रूप इस आयोजन में हिस्सा लिया व उन्होंने भी महिलाओं व बच्चों के विरुद्ध होने वाले अपराधों के बारे में बताते हुए कहा कि समाज का प्रत्येक वर्ग व पुलिस बच्चों व महिलाओं के विरुद्ध अपराधों को लेकर बहुत ही संवेदनशील है और कानून में इन अपराधों को लेकर कठोर नियम व सजा का प्रावधान है, इसलिए हमे बच्चों व महिलाओं की व उनके भविष्य को सुरक्षित रखते हुए उन्हें अपराधों से बचाना है साथ ही अपराधियों को पकड़कर उन्हें सजा दिलानी है साथ ही पुलिस अपनी कार्यशैली व कार्यप्रणाली के तहत इन अपराधों पर ततपरता से कार्यवाही करें ताकि पीड़ित को सहायता मिल सके व आरोपी को सजा। 

▪इस आयोजन में उपस्थित सभी महिला पुलिस अधिकरियों ने इस आयोजन में दी गई जानकारियों को अपनी कार्यशैली का हिस्सा बनाने का वायदा किया  ताकि आरोपियों को सजा मिल सके और समाज अपराध मुक्त हो सके।

▪️श्रीमती ऊषा कुंडू, सहायक पुलिस आयुक्त मुख्यालय, गुरुग्राम द्वारा महिलाओं व बच्चों के विरुद्ध होने वाले अपराधों के संबंध में कानून में दिए गए प्रावधानों के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देने के लिए सेवानिवृत्त निरीक्षक राजपाल, CWC की चैयरपर्सन, One Stop Centre की Head सहित उपस्थित सभी अधिकारियों को इस एक दिवसीय ट्रेनिंग प्रोग्राम का हिस्सा बनने के लिए धन्यवाद किया।

No comments