ब्रेकिंग न्यूज़

कोरोना से रिकवर हुए लोग अपना प्लाज्मा दान करने को आगे आएं-उपायुक्त अमित खत्री


- कोरोना से रिकवर हुए लोग अपना प्लाज्मा दान करने को आगे आएं-उपायुक्त अमित खत्री
- प्लाज्मा दानकर्ता का स्थान रक्तदाता से भी ऊपर
- गुरूग्राम में पटौदी रोड़ पर स्थापित है रोटरी प्लाज्मा बैंक
- अब तक 325 मरीजों को दिया जा चुका है प्लाज्मा
गुरूग्राम, 30 सितंबर।  कोरोना संक्रमण के बाद रिकवर हुए लोग अपने प्लाज्मा का दान करने के लिए आगे आएं क्योंकि उनका दान किया हुआ प्लाज्मा अन्य कोरोना संक्रमित रोगियों की जान बचाने में सहायक होगा। यह अपील आज गुरूग्राम के उपायुक्त अमित खत्री ने स्थानीय पटौदी रोड़ पर स्थित रोटरी प्लाज्मा बैंक परिसर में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में उन सभी गुरूग्रामवासियों से की है जो कोरोना को मात देकर ठीक हो चुके हैं। उन्होंने यह भी कहा कि रक्तदान को महादान कहा गया है लेकिन प्लाज्मा का दानकर्ता उससे भी ऊपर है। 
आज का यह संवाददाता सम्मेलन तथा कार्यक्रम जिला प्रशासन, रोटरी क्लब तथा कैनविन फाउंडेशन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया गया था। अवसर था कैनविन फाउंडेशन की ओर से प्लाज्मा दान कर्ताओं का शतक पूरा हुआ है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उपायुक्त अमित खत्री ने कहा कि गुरूग्राम जिला में कोरोना के 20 हजार से ज्यादा मरीज आ चुके हैं जिनमें से 18 हजार से अधिक मरीज रिकवर होकर स्वस्थ भी हो चुके हैं। इनमें से अभी तक 167 लोग ही अपना प्लाज्मा दान करने के लिए आगे आए हैं। दान कर्ताओं में से कईयों ने दो तथा तीन से चार बार भी प्लाज्मा दान किया है। उपायुक्त ने कहा कि इतना होते हुए भी कोरोना से ठीक हुए मरीजों की संख्या को देखते हुए हमारे यहां अभी भी प्लाज्मा दान करने की कही अधिक क्षमता है। रिकवर हुए लोगों को खुद प्लाज्मा दान करने के लिए आगे आना चाहिए, जिससे कि अन्य कोरोना संक्रमित मरीजों का प्लाज्मा थैरेपी से बेहत्तर ईलाज हो सके और वे जल्द स्वस्थ हो सकें। 
उन्होंने कहा कि रिकवर हुए लोगों को अपना प्लाज्मा दान करने को प्रेरित करने में सामाजिक संस्थाओं का बड़ा योगदान है। इनमें रोटरी क्लब तथा कैनविन फाउंडेशन भी हैं। उपायुक्त ने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौर में सभी संस्थाओं ने एकजुट होकर काम किया, उनमें चाहे जिला प्रशासन हो या काॅर्पोरेट कंपनियां, आरडब्ल्यूए, स्वयंसेवी संस्थाएं, एनजीओ, गुरूग्राम पुलिस नगर निगम आदि सभी ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में हाथ बंटाया और सराहनीय योगदान दिया। सभी के सामुहिक प्रयासांे से ही हम कोरोना की इस चुनौती का सामना कर पाए और इसे काफी हद तक मात दे पाए हैं। यहां की संस्थाओं की प्रेरणा से प्लाज्मा दानकर्ता भी आगे आए हैं जिनकी बदोलत हम अपने यहां ही नहीं बल्कि ईलाज के लिए पड़ौसी जिलों को भी प्लाज्मा दे पाए हैं। साथ ही उपायुक्त ने कहा कि कोरोना को जड़मूल से समाप्त करने के लिए इसी प्रकार प्रशासन और सभी संस्थाएं एकजुट होकर कार्य योजना बनाकर लड़ने को मुस्तैद रहेंगे। उपायुक्त ने आज फिर सभी जिलावासियों को घर से बाहर निकलने पर मास्क पहनने, सामाजिक दूरी का पालन करने तथा सैनेटाईजेशन करते रहने की अपील की। इस मौके पर उपायुक्त ने प्लाज्मा दान कर्ताओं को सम्मानित भी किया। 
इससे पहले गुरूग्राम के सिविल सर्जन डा. वीरेंद्र यादव ने कहा कि प्रदेश के चार जिलों में  सरकार की ओर से जब प्लाज्मा बैंक स्थापित करने को मंजूरी दी गई तो सबसे पहले प्लाज्मा बैंक की स्थापना गुरूग्राम मंे हुई और यहीं पर पहला प्लाज्मा दान किया गया। उन्होंने बताया कि गुरूग्राम में 325 लोगों को प्लाज्मा दिया गया है। उन्होंने बताया कि महिलाएं भी प्लाज्मा दान करने के लिए आगे आई हैं जिनमें मुख्य रूप से डा. रीतिका तथा सुश्री शिवानी शामिल हैं। सिविल सर्जन ने बताया कि जो महिला कभी गर्भवती नहीं हुई, वो ही प्लाज्मा दान कर सकती है। उन्होंने यह भी कहा कि मध्यम से गंभीर बिमारियों के ईलाज में प्लाज्मा थैरेपी काफी कारगर रहती है। जिन कोरोना संक्रमित रोगियों को यह थैरेपी दी गई उनमें से ज्यादात्तर ठीक हो गए हैं और उनकी जान बच गई। डा. यादव ने भी कहा कि कोरोना से बचाव के लिए मास्क पहनने को जन आंदोलन बनाने की जरूरत है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि लगभग 5 प्रतिशत कोरोना संक्रमित मरीजों को ही अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत पड़ी है। 
रोटरी क्लब से एडवोकेट रविंद्र जैन ने मुख्य अतिथि का स्वागत करते हुए कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जिला प्रशासन की योजना की सराहना की। उन्होंने कहा कि इस कठिन दौर में जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने गुरूग्राम में अच्छा काम किया है। जिला प्रशासन के सहयोग से ही रोटरी ब्लड बैंक में प्लाज्मा बैंक की स्थापना हुई। रविंद्र जैन ने रोटरी क्लब की तरफ से कोरोना संक्रमितों के ईलाज में प्रशासन को सहयोग देने का आश्वासन दिलाया। 
कैनविन फाउंडेशन से नवीन गोयल तथा डी पी गोयल ने कहा कि रिकवर हुए लोगों को प्लाज्मा दान करने के लिए प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। नवीन गोयल ने कहा कि प्लाज्मा देने वाला ईश्वर का रूप होता है। उन्होंने बताया कि उनकी संस्था प्लाज्मा दान करने वालों को उनके घर से लाने और वापिस छोड़ने की व्यवस्था भी करती है। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए हमें खुद सर्तक होने की जरूरत है। हमें छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देना होगा। 
इस अवसर पर जिला रैडक्राॅस सोसायटी की चेयरपर्सन एवं उपायुक्त की धर्मपत्नी शुभि, उप सिविल सर्जन डा. अनुज गर्ग, रोटरी क्लब से रविंद्र जैन, कैनविन फाउंडेशन से नवीन गोयल व डी पी गोयल, अधिवक्ता अभय जैन तथा रोटरी क्लब व कैनविन फाउंडेशन के सदस्य उपस्थित थे। 

No comments