ब्रेकिंग न्यूज़

पटौदी-इन्द्रजित वशिष्ट गोली हत्याकांड का सच आया सामने, आरोपियों के कबूलनामे में हत्या के कारण आए सामने।

✍️ इन्द्रजित वशिष्ट गोली हत्याकांड को अन्जाम देने के मामले में शामिल 05 आरोपियों को अपराध शाखा फरुखनगर, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने किया काबू।

✍️ पुराने झगङे की रन्जीश रखते हुए अपने अन्य साथियों के साथ आरोपियों ने रची थी हत्याकाण्ड की योजना, जिसके आधार पर दिया गया था हत्या की वारदात को अन्जाम।

✍️ गुरुग्राम पुलिस द्वारा इस मामले में कुल 06 आरोपियों को किया जा चुका है गिरफ्तार, बकाया आरोपी भी जल्द होगें पुलिस की गिरफ्त में।


▪️इस अभियोग मेँ निरीक्षक इन्दीवर, प्रभारी अपराध शाखा फरुखनगर, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने तत्परता से कार्यवाही करते हुए अपने गुप्त सुत्रों की सहायता से व अपनी समझबुझ से उक्त अभियोग में गोली मारकर हत्याकाण्ड की वारदात को अन्जाम देने की योजना बनाने वाले निम्नलिखित 05 आरोपियों को कल दिनांक 09.10.2020 को गाँव जाटौली से काबू करने में बङी सफलता हासिल की हैः-

1. रोहित पुत्र कंवरपाल निवासी जाटौली, थाना पटौदी, जिला गुरुग्राम।

2. कृष्ण उर्फ गूगन पुत्र रमेश निवासी जाटौली, थाना पटौदी, जिला गुरुग्राम।

3. गोविन्द पुत्र बिरजू निवासी जाटौली, थाना पटौदी, जिला गुरुग्राम।

4. शक्ति उर्फ भोलू पुत्र सतपाल निवासी जाटौली, थाना पटौदी, जिला गुरुग्राम।

5. सचिन पुत्र विरेन्द्र निवासी टोडापुर, थाना पटौदी, जिला गुरुग्राम।

▪️आरोपियो को उपरोक्त अभियोग में नियमानुसार गिरफ्तार किया गया।

▪️आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में बतलाया कि इन्होनें दिनांक 30.08.2020 की रात को अपने साथी अभिषेक निवासी जाटौली व उसके 3 साथियों के साथ मिलकर गाँव जाटौली क्षेत्र में दीवान के खेतों में बने कोठङा पर इक्कट्ठा होकर इन्द्रजीत निवासी जाटौली की हत्या करने की योजना बनाई थी। योजनानुसार दिनांक 02.09.2020 की रात को अभिषेक तथा उसके 03 साथियों ने इन्द्रजीत को गोलियां मारकर उसकी हत्या कर दी। इस वारदात के दौरान एक युवक विक्रम को भी गोलियां लगी,जो उपचाराधीन है।

▪️आरोपियों से पुलिस पूछताछ में यह भी ज्ञात हुआ कि इनके साथी और इस अभियोग की हत्याकाण्ड के मुख्य आरोपी अभिषेक के साथ मृतक इन्द्रजीत का पुराने झगङे को लेकर रंजिश चल रही थी। इस रन्जीश को लेकर मृतक इन्द्रजीत इन्हें भी परेशान करता था। ये काफी दिनों से अभिषेक के साथ मिलकर इन्द्रजीत की हत्या करने की योजना बना रहे थे। इनके साथी अभिषेक ने वर्ष 2019 में भी मृतक इन्द्रजीत पर जानलेवा हमला किया था, जिस सम्बन्ध में थाना पटौदी में पहले से एक अभियोग अंकित है। उस अभियोग में अभिषेक पी.ओ. (उद्घोषित अपराधी) है।

▪️इस अभियोग की वारदात को अन्जाम देने की योजना में शामिल एक आरोपी ताराचन्द उर्फ साधु पुत्र कृष्ण निवासी गांव खण्डेवाला, जिला गुरुग्राम को पुलिस थाना पटौदी, गुरुग्राम की पुलिस टीम द्वारा गिरफ्तार किया गया था। अब तक इस मामले में गुरुग्राम पुलिस द्वारा कुल 06 आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है।

▪️उपरोक्त पांचो आरोपियों को आज माननीय अदालत के सम्मुख पेश करके उक्त आरोपी रोहित पुत्र कंवरपाल को पुलिस हिरासत रिमाण्ड पर लिया जाएगा* तथा बाकी चारों आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेजा जाएगा।

▪️पुलिस हिरासत रिमाण्ड के दौरान आरोपी रोहित से उपरोक्त अभियोग में अन्य साथी आरोपियों व अन्य वारदातों के बारे में गहनता से पूछताछ की जाएगी। पुलिस पूछताछ के दौरान जो भी तथ्य सामने आएगें, नियमानुसार आगामी कार्यवाही की जाएगी। अभियोग अनुसंधानाधीन है।

क्या था पूरा मामला-▪️दिनांक 02.09.2020 को पुलिस चौकी हेलीमण्डी, थाना पटौदी, गुरुग्राम की पुलिस टीम के एक सूचना गाँव जाटौली में 01 व्यक्ति को गोली मारने के सम्बन्ध में प्राप्त हुई।

▪️इस सूचना पर पुलिस चौकी हेलीमण्डी, थाना पटौदी, गुरुग्राम की पुलिस टीम बिना किसी देरी के घटनास्थल पर पहुंच गई जहां पर पुलिस टीम को काफी भीड इक्कट्ठी हुई मिली,  जिन्होंने बतलाया कि इन्द्रजीत व विक्रम नाम के 02 युवकों को गोलियां लगी है और उन्हें ईलाज के लिए सरकारी हस्पताल, पटौदी ले गए है।

▪️इस सूचना पर पुलिस टीम सरकारी हस्पताल, पटौदी पहुंची जहां पर मालूम हुआ कि गोली लगने के कारण इन्द्रजीत नाम के व्यक्ति की मौत हो गई व दूसरे युवक विक्रम को ईलाज के लिए गुरुग्राम रैफर किया गया है।

▪️पुलिस टीम ने अम्बुलैस का प्रबन्ध करके मृतक इन्द्रजीत के शव को मोर्चरी, गुरुग्राम भिजवाया व पुलिस टीम आगामी कार्यवाही के लिए व घटनास्थल के निरीक्षण के लिए पुनः घटनास्थल पर पहुंची जहां पर वारदात के समय हाजिर रहे जयभगवान पुत्र सुन्दरलाल निवासी जाटौली ने एक लिखित शिकायत के माध्यम से बतलाया कि दिनांक 02.09.2020 को समय लगभग 10 PM बजे यह व इसकी मौसी का लडका जाटौली में मौसी के घर से खण्डेवला मोड की तरफ जाने वाले रस्ते पर घुम रहे थे कि तभी इसकी मौसी का लङका इन्द्रजीत जो कि ईश्वर का सगा भाई था, वह विशाल व विक्रम के साथ उसी रास्ते में (मोसी के घर से खण्डेवला मोड की तरफ जाने वाले रास्ते) से अपने ठेके का कैश लेकर अपनी सफेद रगं की स्विफ्ट कार से अपने घर जाटौली की तरफ से इनके पास पहुंचे तो रास्ते मे गली में तीन चार गाय बैठी हुई थी जिस कारण इन्द्रजीत ने गाडी रोक दी तो इसने उन गायों को हटाई तभी इन्द्रजीत की गाडी के पीछे से तीन मोटरसाईकल आई जो एक मोटरसाईकल पर अभिषेक उसके पीछे हरेन्द्र व दो अन्य मोटरसाईकल पर रोहित, सागर, अखिल, कृष्ण व अन्य बैठे हुए थे व अपनी मोटरसाईकिलो से इन्द्रजीत की गाडी को साईड व पीछे से घेर लिया और इन्द्रजीत पर अभिषेक व हरेन्द्र ने जान से मारने की नियत से ताबड तोड गालियां चला दी व दूसरी तरफ अन्य मोटरसाईकिल सवारों ने विक्रम व विशाल पर भी जान से मारने की नीयत से गोलिया चला दी जो गोलियां चलने की आवाज से गाय डर कर इधर उधर भागने लगी तो यह अपने आपको को बचाते हुए दीवार के साथ चिपक गया और वो सभी मोटरसाईकिल सवार इसके सामने ही हवा मे फांयरिगं करते हुए अपनी मोटरसाईकिल वापिस मोडते हुए खण्डेवला मोड की तरफ भाग गए। जब यह स्विफ्ट गाडी के नजदीक पहुंचा तो देखा इन्द्रजीत व विक्रम जख्मी हालत मे अपनी गाडी स्विफ्ट मे पडे हुए थे जिसमें इन्द्रजीत की हालात ज्यादा गम्भीर थी गोली चलने की आवाज से अमित इत्यादि अन्य लोग भी आ गए थे। इसने अमित ने व ईश्वर ने विशाल की इम्दाद से इन्द्रजीत, विक्रम को इसी गाडी स्विफिट से ही सरकारी हस्पताल, पटौदी ईलाज के लिए पहुंचा दिया। जहां पर डाक्टर साहब ने इन्द्रजीत को मृत घोषित कर दिया व गम्भीर रुप से घायल विक्रम को गुडगावां रेफर कर दिया। इस इस वारदात की जानकारी 100 नं. पर दे दी।

इस शिकायत पर थाना पटौदी, गुरुग्राम में कानून व शस्त्र अधिनियम की उचित धाराओं के तहत अभियोग अंकित किया गया

No comments